चतुर्थमुखी रुद्राक्ष

घर // दैनिक चतुर्थमुखी रुद्राक्ष

By jyotishjagran 21 November 2019

चार मुखी रुद्राक्ष ब्रह्म स्वरुप होता है। इसे ब्रह्मा तथा देवी सरस्वती का प्रतिनिधि माना गया है। चार-मुखी रुद्राक्ष चतुर्मुख ब्रह्माजीका प्रतिरूप होने से धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष- इन चारों पुरुषार्थो को देने वाला है। इसका धारक धनाढ्‌य, आरोग्यवान, ज्ञानवान बन जाता है | चार मुखी रुद्राक्ष वृद्धिदाता है | जिस बालक की बुद्धि पढ़ने में कमजोर हो या बोलने में अटकता हो उसके लिए भी यह उत्तम है | चार मुखी रुद्राक्ष पहनने से नर हत्या का पाप समाप्त होता है।

 

चतुर्थमुखी रुद्राक्ष के लाभ

चार मुखी रुद्राक्ष संतान प्राप्ति में भी सहायता करता है | महाशिवपुराण के अनुसार चार मुखी रुद्राक्ष लम्बे समय तक धारण किया जाए और भगवान शिव के बीज मंत्र का पाठ किया जाए तो किसी जीव की हत्या के पाप से भी मुक्ति मिल सकती है | इस रुद्राक्ष के धारण करने से मन की एकाग्रता बढती है और कई प्रकार के अनुसन्धान एवं विज्ञान से सम्बंधित कार्यों में सफलता प्राप्त होने की उम्मीद रहती है | वेदों के व् धार्मिक ग्रंथों के अध्यन में इस रुद्राक्ष के धारण करने से सफलता प्राप्त होती है | वाणी में मिठास और दूसरों को अपना बनाने की कला व्यक्ति के अन्दर उत्पन होती है | शरीर के रोगों को दूर भगाने में भी यह रुद्राक्ष लाभकारी माना गया है | मोक्ष सहित चारों पुरुषार्थों की प्राप्ति इस रुद्राक्ष के धारण करने से हो जाती है | ज्योतिष की दृष्टि से बुद्ध ग्रह को इसका कारक माना गया है इसलिए लेखकों को व् विद्धया अध्यन करने वाले बालकों को इसे अवश्य धारण करना चाहिए | बुद्धि को तीव्र करता है और जीवन को श्रेष्ठ बनाने में सहायक होता है |

चतुर्थमुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ ह्रीं नमः” लिखा गया है लेकिन “ॐ नमः शिवाय” के जाप से भी इसे धारण करके सम्बंधित लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं |

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

एक वैबसाईट जहां आप भारतीय तथा...

March 14, 2014

JyotishJagran.com

March 14, 2014

JyotishJagran.com

March 14, 2014